ठाकरे समूह के बड़े नेता का सवाल; ''वे' अधिकारी वोटों की गिनती के दौरान बार-बार बाथरूम क्यों जाते थे?'

Tue, Jun 18, 2024, 07:33

Source : Hamara Mahanagar Desk

मुंबई: मुंबई उत्तर-पश्चिम लोकसभा नतीजे की चर्चा पूरी दुनिया में हो रही है. टेस्ला और एक्स के मालिक एलन मस्क ने अमेरिकी चुनाव को लेकर ट्वीट कर ईवीएम के खतरे को लेकर चेतावनी दी थी. तब कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने टैग किया और मुंबई उत्तर-पश्चिम लोकसभा चुनाव के बाद की खबर का जिक्र किया और कहा कि ईवीएम(EVM) एक ब्लैक बॉक्स है. शिवसेना ठाकरे समूह के नेता आदित्य ठाकरे और अनिल परब ने आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि वे इस मुंबई उत्तर-पश्चिम लोकसभा चुनाव को अदालत में चुनौती देंगे.

मुंबई उत्तर-पश्चिम लोकसभा सीट पर शिवसेना ठाकरे के उम्मीदवार अमोल कीर्तिकर(Amol Kirtikar) 48 वोटों से हार गए हैं. एकनाथ शिंदे गुट के नेता रवींद्र वायकर ने जीत हासिल की है. इससे पहले ईवीएम से हुई गिनती के बाद अमोल कीर्तिकर एक वोट से जीत गए थे. इसके बाद दोबारा गिनती की मांग की गई. अंततः पोस्टल बैलेट में रवीन्द्र वायकर(Ravindra Waikar) को विजेता घोषित किया गया। आरोप था कि शिंदे गुट के प्रत्याशी रवींद्र वायकर के आधिकारिक प्रतिनिधि की जगह कोई गलत व्यक्ति घुस आया है. ठाकरे समूह ने आरोप लगाया है कि उन्होंने अपने मोबाइल फोन के जरिए ईवीएम को अनलॉक किया। इस पर चुनाव निर्णय अधिकारियों ने कल प्रेस कॉन्फ्रेंस कर खुलासा किया कि ईवीएम को हैक नहीं किया जा सकता.

सीसीटीवी फुटेज क्यों नहीं दिए?
शिवसेना ठाकरे समूह के नेता आदित्य ठाकरे(Aditya Thackeray) ने आरोप लगाया है कि लोकसभा चुनाव में वोटों की गिनती के दौरान सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग किया गया. इस संबंध में हमने 4 जून की घटना के सीसीटीवी फुटेज की मांग की है. लेकिन चुनाव आयोग और पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज देने से इनकार कर दिया है. आदित्य ठाकरे ने पूछा है कि अगर आपकी चुनावी गिनती पारदर्शी है तो आप सीसीटीवी फुटेज क्यों नहीं दे रहे हैं? शिवसेना नेता अनिल परब ने कहा कि मतगणना केंद्र में प्रतिनिधि के मोबाइल फोन से छेड़छाड़ के मामले की पुलिस में शिकायत दर्ज कराने के 10 दिन बाद कार्रवाई की गयी. शिकायत 4 जून को की गई थी और कार्रवाई दस दिन बाद की गई. परब ने कहा कि हमारा साफ आरोप है कि उस दौरान मोबाइल फोन भी बदल गया होगा.

चुनाव निर्णय अधिकारी अक्सर
जब यह पता चला कि गलत प्रतिनिधि मोबाइल फोन के साथ प्रवेश कर गया है तो भ्रम की स्थिति पैदा हो गई. शिकायत के बाद उसका मोबाइल फोन जब्त कर लिया गया. तो उन्होंने बाकी विवरण उस प्रतिनिधि के किस मोबाइल फोन से दिया. इस समय चुनाव निर्णय अधिकारी(Election Decision Officer) बार-बार बाथरूम जा रहे थे. वह उस वक्त किसी से बात कर रही थी. 19वें राउंड तक हर राउंड के आंकड़ों की घोषणा की गई. बाद में जैसे ही दोनों उम्मीदवारों के आंकड़े करीब आए तो जानकारी देना बंद कर दिया गया और सीधे 22वें राउंड के समय आंकड़ों की घोषणा की गई. क्या अंतिम निर्णय की घोषणा करने से पहले रिटर्निंग ऑफिसर (आरओ) से किसी को कोई आपत्ति है? अनिल परब ने कहा कि बिना पूछे सीधे रिजल्ट घोषित कर दिया गया. आदित्य ठाकरे ने कहा कि हमें इस बारे में सारी जानकारी मिल गई है, हम इस फैसले को कोर्ट में चुनौती देंगे.

आयोग को कार्रवाई करनी चाहिए
शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे ने आरोप लगाया है कि अगर चुनाव वाकई पारदर्शी होते तो बीजेपी देश में 40 सीटें भी नहीं जीत पाती. इस समय, आदित्य ठाकरे ने आरोप लगाया है कि उन्होंने उत्तर पश्चिम निर्वाचन क्षेत्र में अशांति के कारण अदालत जाने का फैसला किया है. इस समय शिव सेना नेता एड. अनिल परब ने आरोप लगाया है कि 19 राउंड की चुनावी गिनती के बाद जैसे-जैसे नतीजे के आंकड़े करीब आ रहे थे, पारदर्शिता खत्म हो गई. पहले आरओ प्रत्येक राउंड के बाद मतदान के आंकड़ों की घोषणा करते थे.19 राउंड के बाद प्रक्रिया रोक दी गई. इसके बाद 22वें राउंड में ही सीधे नंबर बता दिए गए. अनिल परब ने मांग की है कि चुनाव आयोग को इस पर सुमोटो कार्रवाई करनी चाहिए.

Latest Updates

Get In Touch

Mahanagar Media Network Pvt.Ltd.

Sudhir Dalvi: +91 99673 72787
Manohar Naik:+91 98922 40773
Neeta Gotad - : +91 91679 69275
Sandip Sabale - : +91 91678 87265

info@hamaramahanagar.net

Follow Us

© Hamara Mahanagar. All Rights Reserved. Design by AMD Groups